Slide background

Collective decision!!

and individual accountability

Nothing can change without knowledge.

Slide background

Let them grow!!!

Do not let the dream of hope to die...

We are the voice of voiceless.

Slide background

Childhood

How to grow without perspective?

You have a problem in hand

own it to solve it.

services

PVCHR

Parul Sharma in India and thanks to Swedish donors

Achievement

About the visit of Ms. Parul Sharma to Varanasi,Jaunpur and Sonbadra of UP,India,where Swedish donors supported different projects through Ms.Parul Sharma ji to PVCHR and JMN(www.pvchr.asia).Thanks to all 200 hundred Swedish donors by PVCHR,Dr. Lenin Raghuvanshi and Ms. Parul Sharma.

Documentary made by Mr. Rohit Kumar of PVCHR(
http://www.bistandsaktuelt.no/nyheter-og-reportasjer/arkiv-nyheter-og-reportasjer/it-opptur-for-indias-kastel%C3%B8se)

Read more...

Varanasi Weavers in crisis

Report

The Varanasi Silk Sari (Banarasi Sari or Brocade) has been an emblem of Indian Culture since ancient times. These beautiful saris woven using handlooms have intricate designs and patterns made from gold and silver thread. Over the years, the demand for these coveted saris, worn both by Hindu and Muslim brides, has reduced.
To make matters worse, Chinese "fakes" made on powerlooms are now available. Exploitation by middlemen and these factors have led to a major decline in the industry. There are approximately 500,000 silk weavers in Varanasi. It is estimated that 60 % of the handlooms are closed. There is starvation and malnutrition. There have been several deaths and suicides reported. Due to lack of work, many highly skilled weavers have chagned professions.
This is an issue of poverty, child labor, human rights, unfair trade, intellectual property rights and threat to cultural heritage. One of the most important reason for this crisis is unchecked and insensitive globalization in developing countries.
This is a video report highlighting this issue. Made by PVCHR ( People's Vigilance Committee on Human Rights - a human rights organization working in Varanasi) and (AHRC) Asian Human, Rights Commission, it features the report by Paul Mason of BBC.
Through this video, we hope to spread awareness of this issue. Please let your friends know about this issue by sending this video.
http://www.youtube.com/watch?gl=IN&hl=en-GB&v=9r5pUNbSFa4

Read more...

..जब इटली से आए विदेशियों ने यहां लगाई दिलचस्प पंचायत!

Achievement, Anti Torture Initiative, Child Centric Model Block


 इटली से आए 32 लोगों की एक टीम ने पिंडरा ब्लाक के सराय गांव के मुसहर बस्ती में अपनी पंचायत लगाई। बेरोजगारी और अशिक्षा की वजह से इस बस्ती के लोग बंधुआ मजदूरी के चंगुल में दशकों फंसे थे।

मानवाधिकार जन निगरानी समिति के अचूक प्रयासों की वजह से आज पूरा गांव इस दलदल से बाहरचुका है। इन ग्रामीणों के संघर्ष कि दिलचस्प कहानी को सुनने और जांबाज़ी को सलाम करने इटली से यह टीम यहां पहुंची।

ग्रामीण राम दयाल ने बताया कि मानवाधिकार जननिगरानी ने 2004 में इस गांव में लोगों को एकजुट करना शुरू किया, जब यहां पर लोग बंधुआ मजदूरी करते थे। यहां इन लोगों के पास जीवन जीने के लिए कोई भी मूलभूत सुविधाए उपलब्ध नहीं थी। लोग दबंगों से बहुत डरे और सहमे रहते थे।

इसके बाद बस्ती में धीरे-धीर लोगों में जागरूकता बढ़ी और योजनाओं तक लोगों की पहुंच बढ़ी। महासचिव डॉ लेलिन ने बताया कि ये विदेशी उन दलितों मुसहर जाति के लोगों से प्रभावित हैं, जो कभी गुलाम हुआ करते थे। बंधुआ मजदूरी के गर्त में डूबे हुए थे। आज की इस बदली हुई तस्वीर को देखने ही इटली से इतने सारे लोग यहां आए हैं।

क्या कहा इटली से आई टीम ने

फादर बरनैडो सर्वेलेरा ने बताया कि ग्रामीणों में गजब का आत्मविश्वास है। इन लोगों ने जीवन की दिशा और दशा दोनों को बदला है। इटली से आए अन सभी लोगों ने इनके संघर्ष की लड़ाई से बहुत कुछ सीखा है।

हम इसे इटली के लोगों को बताएंगे कि कैसे संसाधन विहीन समुदाय ने संघर्ष से अपने जीवन को खुशहाल बनाया है। फादर बरनैडो सर्वेलेरा ने कहा कि हर ईसाई और कैथोलिक उनके अहिंसात्मक संघर्षों के साथ है।

आगे देखें इटली से आए इन लोगों ने कैसे जानी गांव वालों की दास्तां...
http://www.bhaskar.com/article/UP-VAR-father-bernardo-cervellera-team-panchayat-with-musahar-community-4489458-PHO.html

Read more...

मुजफ्फरनगर के दंगा पीड़ितों के राहत शिविर का सच : कराहती मानवता

Campaign

 21 दिसंबर 2013 को वायस ऑफ पीपुल्स (VOP) एवं मानवाधिकार जननिगरानी समिति (PVCHR) के संयुक्त तत्वाधान एक कमेटी मुजफ्फरनगर के दंगे के तीन महीने बाद दंगा प्रभावित क्षेत्र का जायजा लेने पहुंचा | हाल ही में दंगे में रह रहे शरणार्थियों के बच्चों की मृत्यु की खबरें मिडिया में लगातार आ रही थीं, जिससे कैम्पों की बदहाल स्थितियों का अनुमान सहज ही लगाया जा सकता था | किन्तु दंगा प्रभावित क्षेत्र का भ्रमण कर वास्तविक स्थतियों को समझना भी आवश्यक था | कुछ परिवार जो मुवावजा पा चुके हैं वे कैम्पों को छोडकर जा चुके हैं लेकिन वे परिवार जिनका अपने गाँव में रहने का ठौर ठिकाना नही है वे कैम्पों में रहने को मजबूर हैं, वंही प्रशासन द्वारा कैम्पों से ऐसे शर्णार्थियो को जबरिया घर वापस भेजा जा रहा है | यंहा तक कैम्पों को उजाड़ने के लिए बुलडोजर चलाकर शासन प्रशासन अपनी जिम्मेदारी से मुक्त होना चाहता है | विभिन्न राजनैतिक दल कैम्पों का भ्रमण कर अपनी-अपनी तरफ से मदद और राहत के संसाधन उपलब्ध करने के बजाय  केवल एक दुसरे पर आरोप प्रत्यारोपो में ही व्यस्त हैं | कैम्पों में रह रहे अल्पसंख्यक समुदाय के बच्चे और महिलाएं अपने नागरिक होने के बुनियादी अधिकार राहत, सुरक्षा, संरक्षण, पुनर्वास से वंचित हैं | 

Read more...

Older news.

Child Hood

How to grow up without perspective ??

Key Achievement

The work of PVCHR was awarded with the Gwangju Human Rights Award 2007, ACHA Star Peace Award 2008 and 2010 Human rights prize of the city of Weimar in 2010 and Usmania Award from Madarsa Usmania, Bazardiha for the development and welfare of education.

read more

Basic Rights

Basic rights for marginalized groups in the Indian society, e.g. children, women, Dalits and tribes and to create a human rights culture based on democratic values. PVCHR ideology is inspired by the father of the Dalit movement, Dr. B.R. Ambedkar.

read more

Indian Society

Indians society, especially in the rural areas, is still influenced by feudalism and the caste system which continues to determine the political, social, and economic life of the country. Caste based discrimination is practiced in the educational system...

read more

How we work!!!

Fighting caste discrimination
The life narratives, voices, and actual experiences on this website reflect the spiritual awakenings of personalities extraordinaire who desired to make a difference in the lives of others. The passion for social justice and meaningful activities, the dedication to compassion, the commitment and healing journeys of those ordinary individuals and their stirring stories is what we intend to showcase.

PVCHR founded in 1996 by Mr. Lenin Raghuvanshi and Ms. Shruti Nagvanshi in close association with Sarod Mastro Pandit Vikash Maharaj, Poet - Gyanendra Pati and Historian Mahendra Pratap. PATRON: Justice Z.M Yacoob Sitting Judge Constitution Court of South Africa & Chancellor of University of Durban, South Africa.